फल क्या है | फलों के प्रकार | फलों में खाने वाला भाग

फलों में खाने वाला भाग

 फल (Fruits)

पके हुए अंडाशय को फल कहते हैं। जिसमें बीच बनते हैं। निषेचन के बाद अंडाशय में विकसित गूदेदार मृदोत्तक विभिन्न शर्करा तथा अन्य उपयोगी पदार्थों से भर जाता है तथा अंडाशय फल भित्ती (Pericarp) का रूप धारण कर लेती है। फलभित्ती के तीन भाग होते हैं।

बाह्य फलभित्ति (Epicarp)
यह फल का बाहरी भाग होता है। इसे बाह्य फलभित्ती  कहते हैं।

मध्य फलभित्ति (Mesocarp)
यह फल का मध्य भाग होता है। इसे मध्य फलभित्ति या मीसोक्राप भी कहते हैं।

अंत:फलभित्ति (Endocarp)
यह फल के सबसे अंदर का भाग होता है। इसे इंडोक्राप भी कहते हैं।

फलों के प्रकार

फल मुख्यत: 3 प्रकार के होते हैं- 
1.सत्य फल  
2.असत्य फल
3. सरस या एकिफल

सत्य फल (True Fruit)
जब फल बनने में सिर्फ पुष्पा अंडा से ही भाग लेता है तो वैसे फल सत्य फल कहलाते हैं जैसे- अमरूद, आम।

असत्य फल या कूट फल
जब फल बनने में पुष्प के अन्य भाग जैसे- पुष्पासन बाह्य दलपुंज आदि भी भाग लेते हैं ऐसे फलों को कूट फल या असत्य फल कहते हैं। जैसे- सेब, नाशपाती।

सरस या एकिफल
ऐसे फल अंडाशय से विकसित होते हैं जो निम्नलिखित हैं-

1. अष्टिफल (Drupe)
इन फलों की फलभित्ति पतली, मध्य फलभित्ति गूदेदार तथा अन्तःफलभित्ति कठोर होती है। जैसे- नारियल, आम, सुपारी एवं बादाम इत्यादि।

2. बेरी (Berry)
इसकी बाह्य फलभित्ति पतली, मध्य फलभित्ति गूदेदार तथा अन्तःफलभित्ति पतली होती है। जैसे- मटर, अंगूर, अमरूद, बैंगन  इत्यादि।

3. पेपो (Pepo)
इनकी कोई भी भित्ति कठोर नहीं होती है। जैसे- खीरा, ककडी, लौकी एवं तरबूज।

4. हेस्पेरीडियस (Hesperidium)
इसका विकास बहुअंडपी एवं संयुक्त ऊर्ध्व-अंडाशय से होता है। इनकी बाह्य फलभित्ति फांक में अनेक तेल ग्रंथियां होती हैं, फलभित्ति फांक के ऊपर रहती है, जैसे- नींबू, संतरा, मौसमी, इत्यादि।

5. पोम (Pome)
यह संयुक्त अधो अंडाशय से चारों ओर मांशल तथा सरस पुष्पासन के विकास से बनता है। जैसे- सेब, नासपाती, लुकाट इत्यादि।

6. बैलुस्टा (Balausta)
यह बहुकोष्ठकीय, बहुबीजी, संयुक्त अर्द्ध-अंडाशय से बनने वाला फल, जैसे - अनार आदि।

7. एम्फीसारका (Amphisarca)
इस प्रकार के फलों में बाह्य फल भित्ति बहुत ही कठोत होती है, जैसे- बेल।


फल और उनके खाने योग्य भागों के नाम

क्र.सं. फल फल का प्रकार खाने योग्य भाग
1. आम ड्रुपमध्य फलभित्ति
2.  सेव, नाशपाती पोम मांशल पुष्पासन
3.  लीचीनट मांसल ऐरिल
4.  सिंघाड़ा नट बीज
5.  काजू  नटबीजपत्र और मांसल 
पुष्पपवृन्त
6.  भिंडी कैप्सूलसम्पूर्ण फल
7. केला  बेरीमध्य और अन्तःफलभित्ति
8.  अंगूर  बेरी फलभित्ति और प्लेसेंटा
9.  अमरूदबेरी फलभित्ति और बीजांडसन
10. टमाटर नट फलभित्ति और बीजांडसन
11. पपीता नटमध्य फलभित्ति
12.नारियल ड्रुपभ्रूण और भ्रूणपोष
13.अखरोट ड्रुपपलिवत् बीजपत्र
14.  खीरा,तरबूज,ककड़ी
पेपो मध्य और अन्तःफलभित्ति
15.  मूंगफलीलोमेंटम भ्रूण
16.  नींबू  हीस्परीडियम रसदार रोम
17.  कटहल  सेरोसिससहपत्र और परिदलपुंज
18.  शरीफा  बेरी का पुंज सहपत्र और परिदलपुंज
19.  गेंहू, मक्का कैरिआपिसस भ्रूणपोष और भ्रूण
20. - - -


यह भी पढ़े-




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

close