CTET EXAM 2021: लेव वाइगोस्तकी के सिद्धांत पर आधारित ये प्रश्न अवश्य देखें

 लेव वाइगोस्तकी के सिद्धांत पर आधारित प्रश्न

लिव सिमनोविच वाइगोत्सकी का सामाजिक दृष्टिकोण संज्ञानात्मक विकास का एक प्रगतिशील विश्लेषण प्रस्तुत करता है। वस्तुतः रूसी मनोवैज्ञानिक वाइगोत्सकी ने बालक के संज्ञानात्मक विकास में समाज एवं उसके सांस्कृतिक संबंधों के बीच संवाद को एक महत्वपूर्ण आयाम घोषित किया है। वाइगोत्सकी का मानना है कि विकास तथा अधिगम के बीच संबंध का सर्वश्रेष्ठ सार  विकास प्रक्रिया अधिगम प्रक्रिया के पीछे रह जाती है।

लेव वाइगोस्तकी के सिद्धांत पर आधारित प्रश्न


1. वाइगोत्स्की के अनुसार, समीपस्थ विकास का क्षेत्र है-

A. अध्यापिका के द्वारा दिए गए सहयोग की सीमा निर्धारित करना।

B. बच्चे के द्वारा स्वतंत्र रूप से किए जा सकने वाले तथा सहायता के साथ करने वाले कार्य के बीच अंतर।

C. बच्चे को अपना समर्थन प्राप्त करने के लिए उपलब्ध कराए गए सहयोग की मात्रा एवं प्रकृति।

D. बच्चे अपने आप क्या कर सकती है इसका आकलन नहीं किया जा सकता है।

Ans- B

2. जब वयस्क सहयोग से सामंजस्य कर लेते हैं तो वे बच्चे के वर्तमान स्तर के प्रदर्शन को संभावित क्षमता के स्तर के प्रदर्शन की तरफ प्रकृति क्रम को सुगम बनाते हैं इसे कहा जाता है?

A. समीपस्थ विकास

B. सहयोग देना

C. सहभागी अधिगम

D. सहयोगात्मक अधिगम

Ans- A

3. वाइगोत्सकी  के सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत के अनुसार-

A. संस्कृति और भाषा संज्ञानात्मक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

B. बच्चे अलग क्षेत्र में चिंतन करते हैं और वह पूर्ण परिप्रेक्ष्य नहीं लेते

C. यदि निम्न आयु पर अमूर्त सामग्री को प्रस्तुत किया जाए तो बच्चे अमूर्त तरीके से चिंतन करते हैं।

D. स्व निर्देशित वाक् सहयोग का निम्नतम स्तर है

Ans- A

4. वाइगोत्सकी बच्चों के सीखने में निम्नलिखित में से किस कारक की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल देते हैं?

A. आनुवंशिक

B. नैतिक

C. शारीरिक

D. सामाजिक

Ans- D

5. वाइगोत्सकी के सिद्धांत में विकास के निम्नलिखित में कौन से पहलू की उपेक्षा होती है?

A. सांस्कृतिक

B. जैविक

C. भाषायी

D. सामाजिक

Ans- B

 6. वाइगोत्सकी के अनुसार सीखने को पृथक नहीं किया जा सकता-

A. उसके सामाजिक संदर्भ से

B. अब बोलने और अबधनात्मक प्रक्रियाओं से

C. पुनर्बलन से

D. व्यवहार में मापने योग्य परिवर्तन से

Ans- A

7. वाइगोत्सकी तथा पियाजे के परिप्रेक्ष्य में एक प्रमुख विभिन्नता है-

A. व्यवहारवादी सिद्धांतों की उनकी आलोचना

B. बच्चों को एक पालन पोषण का प्रवेश उपलब्ध कराने की भूमिका

C. भाषा एवं चिंतन के बारे में उनके दृष्टिकोण

D. ज्ञान के सक्रिय निर्माताओं के रूप में बच्चों की संकल्पना

Ans- A

8. लेव वाइगोत्सकी के अनुसार संज्ञानात्मक विकास का मूल कारण है-

A. संतुलन

B. सामाजिक अन्योन्यक्रिया 

C. मानसिक प्रारूपों का समायोजन

D. उद्दीपक अनुक्रिया युग्मन

Ans- b

9. लेव वाइगोत्सकी के समाज संरचना मैं दृढ़ विश्वास रखने वाले शिक्षक के नाते आप अपने बच्चों के आकलन के लिए निम्नलिखित में किस तिथि को वरीयता देंगे?

A. सहयोगी प्रोजेक्ट

B. मानकीकृत परीक्षण

C. तथ्यों पर आधारित प्रत्यास्मरण

D. वस्तुपरक बहुविकल्पी प्रकार के प्रश्न

Ans- A

10. लेव वाइगोत्सकी कहां के थे?

A. जापान

B. रूस

C. अमेरिका

D. चीन

Ans-B


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

close