राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस | Rashtriya Panchayati Raj diwas

राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस | Rashtriya Panchayati Raj diwas


 पंचायती राज दिवस 

पंचायती राज मंत्रालय राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस या राष्ट्रीय स्थानीय स्वशासन दिवस का आयोजन करता है भारत में अप्रैल 2010 में पहला राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस या राष्ट्रीय स्थानीय सरकार दिवस मनाया गया था। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 40 में पंचायतों का उल्लेख किया गया है तथा अनुच्छेद 246 में राज्य विधानमंडल को स्थानीय स्वशासन से संबंधित है और भी विषय के संबंध में कानून बनाने के अधिकार दिए हुए हैं। वर्तमान में भारत में पंचायती राज मंत्री श्री गिरिराज सिंह जी हैं। 

पंचायती राज का इतिहास

24 अप्रैल 1993 को पंचायती राज के संविधान (73  संविधान संशोधन) अधिनियम 1992 के माध्यम से संस्थागतकरण के साथ, जमीनी स्तर पर सत्ता के विकेंद्रीकरण के इतिहास में एक निर्णायक क्षण आया, जो इस दिन से प्रभावी हुआ। पंचायती राज मंत्रालय हर साल 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के रूप में मनाता है क्योंकि इस तारीख को 73 वां संविधान संशोधन लागू हुआ था। राजस्थान पहला राज्य था जिसने 1959 में दिवंगत प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के समय पंचायती राज व्यवस्था को लागू किया गया था।

अंग्रेजी शासन काल के दौरान सर्वप्रथम 1807 में लॉर्ड मेयो ने शक्तियों का विकेंद्रीकरण करने का प्रयास किया लेकिन आप प्रयास असफल रहा उसके पश्चात उसके पश्चात सन 1882 मैं लॉर्ड रिपन ने भी स्थानीय स्वशासन की स्थापना का एक सफल प्रयास किया इसलिए लॉर्ड रिपन को ही स्थानीय स्वशासन या पंचायत राज्य का जनक कहा जाता है इसके अतिरिक्त 1919 के मांटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधार अधिनियम तथा 1935 के अधिनियम में भी इस पर कुछ प्रगति हुई।

राज्यों में पंचायतों का गठन 

2 अक्टूबर 1959 को सर्वप्रथम राजस्थान में नागौर जिले में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा वर्तमान में त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था का उद्घाटन किया गया। 11 अक्टूबर 1959 आंध्र प्रदेश के महबूबनगर जिले में दूसरी ग्राम पंचायत का गठन किया गया।

पंचायती राज दिवस के अवसर दिये जाने वाले पुरस्कार 

राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर पंचायती राज मंत्रालय द्वारा देशभर में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली पंचायतों को पुरस्कृत किया जाता है या पुरस्कार विभिन्न श्रेणियों के अंतर्गत दिए जाते हैं। यह पुरस्कार इस प्रकार से हैं-
  1. नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्रामसभा पुरस्कार।
  2. दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार।
  3. बाल सुलभ ग्राम पंचायत पुरस्कार।
  4. ई- पंचायत पुरस्कार ( सिर्फ राज्यों या संघ राज्य क्षेत्रों को )।

भारत में पंचायती राज पर घटित कुछ समितियां

  • बलवंत राय मेहता समिति - 1956
  • अशोक मेहता समिति - 1977
  • राव समिति - 1985
  • सिंघवी समिति - 1987
  • पीके थुंगन समिति - 1988

शाही आयोग 1907

स्थानीय संस्थाओं की जांच हेतु 1907 में अंग्रेज सरकार द्वारा सीसीएच अब हाउस की अध्यक्षता में एक आयोग बनाया था जिसे राजकीय विकेंद्रीकरण आयोग या साहिल आयोग के नाम से जाना जाता है।

पंचायती राज से बनने वाले प्रश्न

1. ग्राम पंचायत के मुखिया का निर्वाचन किसके द्वारा होता है
A. प्रमुख
B. खंड विकास अधिकारी
C. ग्राम सभा
D. अध्यक्ष
Ans- C

2. ग्राम कचहरी का कार्यकाल कितने वर्ष होता है ?
A. 6 वर्ष
B. 7 वर्ष
C. 5 वर्ष
D. 4 वर्ष
Ans- C

3. पंचायती संस्थाओं के कर्तव्य की सूची संविधान की किस अनुसूची में दी गई है ?
A. 13 वीं
B. 11 वीं
C. 10 वीं
D. 12 वीं
Ans- B

4. पंचायती राज संस्थाओं को नया स्वरूप देने के लिए संविधान का कौन सा संशोधन अधिनियम पारित हुआ ?
A. 74 वां
B. 73 वां
C. 71 वां
D. 72 वां
Ans- B

5. निम्नलिखित में से ग्राम पंचायतों के अंग चुनिए ?
A. प्रमुख
B. ग्राम सभा
C. प्रखंड
D. अध्यक्ष
Ans- B

6. ग्राम पंचायत का प्रधान कौन होता है ?
A. ग्रामसेवक
B. सरपंच
C. मुखिया
D. दलपति
Ans- B

7. जिला परिषद का प्रधान कौन होता है ?
A. मेयर
B. सरपंच
C. मुखिया
D. अध्यक्ष
Ans- D

8. पंचायत समिति का मुख्यालय कहां होता है ?
A. गांव
B. अनुमंडल
C. जिला
D. प्रखंड
Ans- D

9. ग्राम पंचायत में सरकारी पदाधिकारी कौन होता है ?
A. जिला विकास पदाधिकारी
B. उपविकास आयुक्त
C. पंचायत सेवक
D. प्रखंड विकास पदाधिकारी
Ans- C

10. ग्राम पंचायत का कार्यकाल कितने वर्ष होता है ?
A. 6 वर्ष
B. 5 वर्ष
C. 7 वर्ष
D. 4 वर्ष
Ans- B

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

close