वृद्धि एवं विकास स्पेशल नोट्स (KVS Exam: Growth and Development Notes)

 हेलो दोस्तों नमस्कार स्वागत है आपका www.teachersadda247.info पर जैसा आपको पता  है कि KVS exam 2023 की वैकेंसी आ गई है। आपने देखा होगा कि इसका पररीक्षा पैटर्न बदला हुआ है। आप इस पोस्ट में नये पैटर्न के अनुसार  नोट्स मिलेंगे। जो की एनसीईआरटी की बुक  से तैयार नोट्स मिलेंगे।

Growth and development KVS EXAM PEDAGOGY NOTES

बाल मनोविज्ञान तथा बाल विकास में अंतर

बाल मनोविज्ञान बाल विकास 
वातावरणीय परिपेक्ष में कम ध्यान वातावरणीय प्रभावों को विशेष रूप से देखना
विकास व्यवहार या विषय वस्तु पर विशेष ध्यान उसकी प्रक्रिया पर बल
गर्भावस्था से बाल्यावस्था पर विशेष बल देता है गर्भावस्था से किशोरावस्था तक का अध्ययन

 

विकास की परिभाषा (Definition of development)

विकास जीवन पर्यंत चलने वाली प्रक्रिया है जो गर्भावस्था से लेकर मृत्यु तक चलती रहती है। यहां हम कह सकते हैं कि विकास बाह्य एवं आंतरिक कारणों से व्यक्ति में परिवर्तन है।

विकास के सिद्धांत (principal of development)

विकास के निम्नलिखित सिद्धांत हैं जोकि परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है-
  1. निरन्तरता का सिद्धांत
  2. असमानता का सिद्धांत
  3. व्यक्तिगत विभिन्नता का सिद्धांत
  4. सामान्य से विशेष की ओर 
  5. एकीकरण का सिद्धांत

विकास की दिशा –

➥ विकास की दिशा सिरोपदोमुखी अर्थात सिर से पैर की ओर होती है।
➥ अधोगामी विकास केंद्र से बाहर की ओर होता है।
➥ विकास वर्तुलाकार होता है रेखीय नहीं।
➥ विकास वातावरण तथा वंशानुक्रम का गुणनफल होता है।

विकास के आयाम-

  • शारीरिक विकास
  • मानसिक विकास
  • संवेगात्मक विकास
  • नैतिक विकास
  • भाषाई विकास
  • क्रियात्मक विकास
  • संज्ञानात्मक विकास 
See also  UPTET Previous Year Question Papers: Download PDF

बाल विकास का महत्व शिक्षकों के लिए (Relevance of child development for teacher)

  1. व्यक्तिगत विभिन्नता ओं को समझना / understanding inductive difference.
  2. अधिगमकर्ता एवं अधिगम प्रक्रिया को समझना/ understanding the learner and learning.
  3. विकासात्मक विशेषताएं समझना / understanding development character .
  4. शिक्षण विधियों को समझना/ understanding effective methods of teaching.
  5. मानसिक स्वास्थ्य का ज्ञान /knowledge of mental health.
  6. पाठ्यचर्या का निर्माण/ curriculum constration.
  7. बच्चों का खेल के माध्यम से विकास करना / child development and play.
  8. अनुदंशात्मक तकनीक का प्रयोग / use of interactional technology.

बाल विकास के दायरे (scop of child development)

Who easy to development the child ?
  1. Parents
  2. Teachers
  3. Various Agencies
 How development to child ?
  1. Knowledge of development process.
  2. Knowledge of capacity and limitation child.
Where to development the child ?
  1. Family (परिवार)
  2. School (विद्यालय)
  3. Community (समुदाय)
बाल विकास के कुछ अन्य दायरे होते हैं जिन्हें एक शिक्षक को इन सब चीजों के बारे में जानकारी होनी चाहिए क्योंकि एक कुशल अध्यापक वही होता है जिन्हें इन चीजों की जानकारी होती है।
what development right directiomn measurement and evaluation?

➣ Why development of child?

➣ Objective of development?


Difference between Growth and Development (वृद्धि एवं विकास में अंतर)

वृद्धि (Growth) विकास (Development)
एक निश्चित आयु तक चलने वाली प्रक्रिया विकास जीवन पर्यंत चलता रहता है
वृद्धि संकुचित अवधारणा है विकास  व्यापक है
वृद्धि का माप तोल संभव है इसे केवल व्यवहार के आधार पर महसूस किया जा सकता है
स्पष्ट दिखाई देती है यह  अस्पष्ट है 
विकास का ही हिस्सा होती है विकास स्वतंत्र एवं चौमुखी हता है
वृद्ध में परिवर्तन रचनात्मक होते हैं विकास में परिवर्तन रचनात्मक व विनाश आत्मक होते हैं।
व्यक्ति के संरचनात्मक पक्ष से संबंधित है यह व्यक्ति के कार्यात्मक  संबंधित है
इसे बाह्य रूप से देखा जा सकता है यह आंतरिक होता है।
See also  UPTET/MPTET EXAM 2021: वर्णमाला से संबंधित महत्वपूर्ण 30 प्रश्न

यह भी पढ़ें>>

Leave a Comment