UPTET/CTET EXAM : पावलव के सिद्धांतों से संबंधित ये प्रश्न अवश्य देखें

पावलव का जीवन परिचय ( Biography of Evan pavlov)


पावलव का जीवन परिचय ( Biography of Evan pavlov)



राष्ट्रीयता      - रूस
जन्म           - 26 सितंबर 1848 
मृत्यु            - 20 फरवरी 1936 
पुरस्कार       - नोबेल पुरस्कार 1904
प्रमुख प्रयोग -  कुत्ते पर (मूलतः पाचन क्रिया पर प्रयोग ग्रंथि पैराटिड ग्रंथि)

पावलव के सिद्धांत के उपनाम

➢ शरीर शास्त्री का सिद्धांत 
➢ शास्त्रीय अनुबंधन सिद्धांत 
➢ क्लासिकल सिद्धांत
➢ अनुबंधित अनुक्रिया का सिद्धांत
➢ संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत 
➢ अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत
➢ अनुबंधित अनुक्रिया का सिद्धांत
➢ अस्वाभाविक अनुक्रिया का सिद्धांत
➢ प्रतिवादी प्रतिक्रिया का सिद्धांत 
➢ परंपरागत अनुकूलन सिद्धांत
➢ संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत
➢ s-type अनुबंधन
➢ अनुकूलित अनुक्रिया सिद्धांत

सिद्धांत के चरण


  1. UCS स्वाभाविक उद्दीपक (भोजन)
  2. CS अस्वाभाविक उद्दीपक( घंटी)
  3. UCR स्वभाविक अनुक्रिया (लार)
  4. CR अस्वाभाविक अनुकूलित 

अनुकूलन से पूर्व - UCS-UCR
 
अनुकूलन के दौरानCS+UCR.  UCR

अनुकूलन के बाद - CS   CR


पावलव की प्रमुख पुस्तकें

1.   कंडीशन रिफ्लेक्सस
2. द एक्सपेरिमेंट साइकोलॉजी
3. सायकोपैथोलॉजी ऑफ एनिमल

Note- अस्वाभाविक  उद्दीपक के प्रति स्वाभाविक अनुक्रिया होना

      शैक्षिक महत्व
  1. सीखने की स्वाभाविक विधि बताता है
  2. भय भय निवारण में सहायक
  3. अनुशासन विकसित करने में सहायक अच्छा व्यवहार
  4. गणित शिक्षण में सहायक
  5. अभिव्यक्ति विकास में सहायक
  6. सुबह व आदत निर्माण में सहायक
 उद्दीपक सामान्यीकरण के उदाहरण
1. किसी भी काली बस को देखकर डरना
2. पहले भोजन पर - लार 
3. फिर सिर्फ घंटी की आवाज सुनकर- लार 
4. घंटी के स्थान पर सीटी बजाना - लार 

पावलव के प्रमुख शब्द

  • उद्दीपक सामान्यीकरण
  • उद्दीपक विभेदन 
  • उच्च श्रेणी अनुकूलन 
  • निम्न श्रेणी अनुकूलन 
  • स्वत पुनः लाभ 
  • आदर्श अंतराल









एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ