डॉ ज्ञान चतुर्वेदी के उपन्यास पागलखाना को मिला 32 वां व्यास सम्मान


व्यास सम्मान हिंदी साहित्य के क्षेत्र में दिया जाता है। 32 वां व्यास सम्मान हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक डॉ ज्ञान चतुर्वेदी के उपन्यास ‘पागलखाना’ को वर्ष 2022 के लिए दिया गया। इस पुरस्कार की शुरुआत वर्ष 1991 से केके बिड़ला फाउंडेशन के द्वारा की गई। 
व्यास सम्मान 2022 विजेता डॉ ज्ञान चतुर्वेदी

व्यास सम्मान के बारे में संक्षिप्त जानकारी 

यह पुरस्कार साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है। इसकी स्थापना केके बिड़ला फाउंडेशन के द्वारा वर्ष 1991 में की गई। इसमें विजेता को पुरस्कार स्वरूप 3.5 लाख रुपए तथा एक प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह दिया जाता है। 

पुरस्कार का क्षेत्र साहित्य
शुरुआत 1991
प्रथम पुरस्कार रामविलास शर्मा
नवीनतम डॉ ज्ञान चतुर्वेदी (2022

व्यास सम्मान पुरस्कार से संबंधित कुछ जानकारी

  • इस पुरस्कार की शुरुआत केके बिड़ला फाउंडेशन द्वारा वर्ष 1991 में की गई।
  • इस पुरस्कार को पाने वाले पहले विजेता रामविलास शर्मा जी थे जिन्हें उनकी रचना ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’ को दिया गया।
  • वर्ष 2022 का नवीनतम पुरस्कार डॉ ज्ञान चतुर्वेदी जी को उनकी रचना पागलखाना को दिये जाने की घोषणा की गई है।
  • यह पुरस्कार वर्ष 2007 में किसी को भी नहीं दिया गया था।
  • यह पुरस्कार पिछले 10 वर्षों में प्रकाशित हिन्दी की किसी भी कृति को दिया जाता है।
  •  एक बार व्यास सम्मान से सम्मानित लेखक को भविष्य में दोबारा यह  सम्मान नहीं दिया जाता।
व्यास सम्मान पुरस्कार सूची (1991 से अब तक) देखने के लिए क्लिक करें – Click here
व्यास सम्मान पुरस्कार सूची 2022, व्यास सम्मान सूची, व्यास सम्मान पुरस्कार 2021, व्यास सम्मान पुरस्कार क्या है, व्यास सम्मान पुरस्कार धनराशि व्यास सम्मान विजेता 2022, व्यास सम्मान लिस्ट 2022
FAQs

1. व्यास सम्मान पुरस्कार वर्ष 2022 के लिए किसे दिया गया ?
Ans- वर्ष 2022 के लिए डॉ ज्ञान चतुर्वेदी को उनकी रचना पागलखाना को दिया गया।
2. व्यास सम्मान में पुरस्कार धनराशि कितनी दी जाती है ?
Ans- ₹3.5 लाख 
3. प्रथम व्यास सम्मान किसे दिया गया ?
Ans- यह पुरस्कार पाने वाले पहले विजेता रामविलास शर्मा जी थे जिन्हें उनकी रचना ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’ को दिया गया।
यह भी पढ़ें ->>

See also  अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार 2023

2 thoughts on “डॉ ज्ञान चतुर्वेदी के उपन्यास पागलखाना को मिला 32 वां व्यास सम्मान”

Leave a Comment