-->

भारत के पठार | Bharat ke phatar

 भारत के पठार 

पठार किसे कहते हैं What is plateau

प्रायद्वीपीय भारत में कुछ समतल ऊंचे उठे हुए भाग होते हैं जिन्हें पठार Plateau कहते हैं। प्रायद्वीपीय भारत में ऊंची ऊंची चोटियां जिनका शीर्ष भाग समतल होता है, इन्हें ही पठार की संज्ञा दी गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु
  • प्रायद्वीपीय पठार गोंडवाना लैंड का ही भाग है।
  • प्रायद्वीपीय भारत की भूमी पथरीली होने के कारण यहां मृदा में जल एकत्र नहीं होता है।
  • यहां सिंचाई के लिए तालाब पाये जाते हैं
  • यह पश्चिम में अरब सागर तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी से घिरा हुआ है।
  • यह उत्तर पश्चिम में अरावली पर्वत तथा उत्तर-पूर्व में राजमहल की पहाड़ियों तक तथा दक्षिण में तमिलनाडु राज्य तक फैला हुआ है।
  • भारत का वह भाग जो तीन तरफ से जल से घिरा है उस भाग को प्रायद्वीप कहते हैं।

भारत में पाये जाने वाले एक एक पठारो का विस्तृत अध्ययन करेंगे। प्रायद्वीपीय भारत के पठार के अन्र्तगत निम्नलिखित संरचनाएं शामिल हैं। 

भारत के पठार


मालवा का पठार

मालवा का पठार भारत के उत्तर मध्य में गुजरात के पूर्व तथा अरावली पर्वत के दक्षिण-पूर्व में स्थित बुंदेलखंड की उच्च भूमि से घिरा हुआ है। मालवा पठार का आकार त्रिभुजाकार है। मालवा का पठार का निर्माण ज्वालामुखी से निकलने वाले लावे से हुआ है।इसी कारण इसका रंग काला है। इसका विस्तार मध्य प्रदेश में है। यहां से चंबल, काली सिंध नदी, बेतवा तथा केन नदियां इसी पठार से निकल कर उत्तर दिशा की ओर बहते हुए उत्तर प्रदेश की यमुना नदी मिल जाती हैं। जानापाव पहाड़ी मालवा पठार की सबसे ऊंची चोटी है।

महत्वपूर्ण बिंदु
  • मालवा पठार का ढाल उत्तर दिशा की ओर है, इसी कारण इससे निकलने वाली नदियां उत्तर दिशा की ओर बहती हैं।
  • इसका विस्तार अरावली पर्वत तथा विंध्य पर्वत के मध्य में है।
  • इस पठार की सबसे ऊंची चोटी जानापाव पहाड़ी है।
  • मालवा पठार के आस पास काली मिट्टी पायी जाती है।
  • काली मृदा कपास की फसल के लिए उत्तम है।

छोटानागपुर पठार

छोटा नागपुर के पठार का विस्तार झारखंड तथा पश्चिम बंगाल राज्य तक है। छोटा नागपुर पठार से दो प्रमुख नदियां निकलती हैं स्वर्ण रेखा तथा दामोदर नदी, दामोदर नदी इस पठार को दो भागों में विभाजित करते हुए पश्चिम बंगाल राज्य की हुगली नदी में जाकर मिलती है। दामोदर नदी छोटा नागपुर पठार के बीचों बीच अपने भ्रन्श घाटी में पूरब की ओर बहती है। छोटा नागपुर पठार पर और छोटे छोटे की पठार हैं। जैसै-
  1. हजारी बाग का पठार 
  2. रांची का पठार

हजारी बाग का पठार का विस्तार दामोदर नदी के उत्तर में तथा रांची के पठार का विस्तार दामोदर नदी के दक्षिण में है। रांची का पठार संप्राय मैदान का उदाहरण है। यहां बहुत अधिक मात्रा में कोयला तथा अन्य पदार्थ पाते जाते हैं।
पठार का एक ऐसा मैदान जहां चट्टानी टीले अथवा शिखर नहीं पाते जाते हैं सम्प्रदाय मैदान कहलाते हैं।
महत्त्वपूर्ण बिन्दु
  • छोटा नागपुर पठार को रूर प्रदेश कहा जाता है।
  • क्यो कि यह खनिज संपदा की दृष्टि से सबसे समृद्ध पठार है।
  • छोटा नागपुर के पठार से कोयला, लोहा, यूरेनियम आदि खनिज प्राप्त होते हैं।
  • छोटा नागपुर पठार से दो नदियां निकलती है स्वर्ण रेखा तथा दामोदर नदी।
  • इसकी पठार की औसत ऊंचाई 700 मीटर है।
  • झारखंड को औद्योगिक प्रदेश भी कहते हैं।

मेघालय का पठार या शिलांग पठार

इसका विस्तार पूर्वोत्तर भारत के मेघालय राज्य में है। यह पठार प्रायद्वीप भारत के अन्र्तगत ही आता है। इस पठार पर गारो, खासी तथा जयंतिया नाम की जनजातियां पायी जाती है। इन जनजातियों के नाम पर यहां की पहाड़ियों के नाम है। गारो पहाड़ी, खासी पहाड़ी तथा जयंतिया पहाड़ी स्थित हैं। यहां की खासी पहाड़ी के पास ही मानिसराम नामक जगह है जहां सर्वाधिक वर्षा होती है।

महत्वपूर्ण बिंदु
  • शिलांग पठार पर मुख्य पांच पहाड़ियां गारो, खासी, जयन्तिया,मिकिर तथा रेंगमा स्थित हैं।
  • शिलांग पठार का कुछ भाग असम राज्य में स्थित है।
  • शिलांग पठार की सबसे ऊंची चोटी नोकरेक है।
  • नोकरेक पहाड़ी, गारो पहाड़ी पर स्थित है।
  • नोकरेक वर्ष 2009 में जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया
  • मेघालय में औसत वार्षिक वर्षा 12000 मिमी होती है।
  • यहां पाये जाने वाले जानवर में हाथी, जंगली सुगर, लाल पांडा, जंगली भैंसा, आदि जानवर देखने को मिलते हैं।



दक्कन का पठार

दक्कन का पठार प्रायदीपीय भारत के मध्य में स्थित है। यह पश्चिम घाट, पूर्वी घाट एवं सतपुड़ा पर्वत के बीचों बीच स्थित है। इसका निर्माण दक्कन ट्रैप चट्टानों से हुआ है। दक्कन का पठार भारत के आठ राज्यों में फैला हुआ है। इस पठार के अन्र्तगत निम्नलिखित संरचनाएं पायी जाती हैं।
  1. बालाघाट पहाड़ी
  2. हरिश्चंद्र पहाड़ी
  3. अजंता पहाड़ी
  4. गतिलगढ पहाड़ी
ये सभी पहाड़ियां महाराष्ट्र राज्य में स्थित है जो दक्कन पठार के अन्तर्गत ही आती हैं। इसी पठार के अन्तर्गत दंडकारण्य का पठार तथा बस्तर का पठार स्थित है। दंडकारण्य पठार का विस्तार मुख्य रूप से छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा राज्य में है। तथा दंडकारण्य पठार के दक्षिण में बस्तर का पठार स्थित है।

#भारत के पठार से परीक्षाओं में पूछें जाने वाले महत्वपूर्ण प्रश्न-


1. रांची का पठार क्या है? [B.Ed]
(a) एक पेडीप्लेन  
(b) एक उत्थित पेनीप्लेट 
(c) एक संरचनात्मक मैदान
(d) पर्वत पदीय पठार

2. स्थलमंडल के कुल क्षेत्रफल के कितने प्रतिशत भू भाग पर पठार का विस्तार है? [GIC]
(a) 26%
(b) 30%
(c) 33% 
(d) 41%
नोट-
भारत के कुल क्षेत्रफल पर
मैदान 43%, पठार 28%, पहाड़ियां 18%, पर्वत 11%

3. जो पठार चारों ओर पर्वतमालाओं से घिरे रहते हैं, क्या कहलाते हैं? [GIC]
(a) गिरीपाद 
(b) तटीय पठार
(c) अन्तरापर्वतीय पठार 
(d) वायव्य पठार 

4. भारतीय प्रायद्वीप पठार का क्षेत्रफल कितना है ?(UPP)
(a) 16 लाख वर्ग किलोमीटर
(b) 14 लाख वर्ग किलोमीटर
(c) 15 लाख वर्ग किलोमीटर
(d) 18 लाख वर्ग किलोमीटर

5. नर्मदा नदी के उत्तर एवं दक्षिण में क्रमशः कौन से पठार स्थित हैं ?
(a) शिलांग का पठार एवं मालवा पठार
(b) मालवा पठार एवं शिलांग का पठार
(c) मालवा पठार एवं दक्कन का पठार
(d) दक्कन का पठार एवं मालवा पठार

6. हाड़ौती पठार की उत्पत्ति किस काल में हुई ?
(a) प्लिस्टीसीन काल
(b) प्रि-कैम्बियन काल 
(c) क्रिटेशियश काल
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

7. प्रायदीपीय पठारीय प्रदेश किसके एक अंग है?
(a) अंगारा लैंड का
(b) टेथिस सागर का 
(c) गोंडवाना भू भाग का
(d) हिमालय का

8. सहयाद्री पर्वत ( पश्चिमी घाट पर्वत) की सबसे ऊंची चोटी ?
(a) कलासू बाई 
(b) कुन्द्रेमुख 
(c) अन्नाईमुडी
(d) दोदाबेट्टा

9. छोटा नागपुर पठार की सबसे ऊंची चोटी कौन सी है ?
(a) धूपगढ़
(b) पारसनाथ
(c) महाबलेश्वर
(d) पंचमढ़ी

10. मालवा पठार की सबसे ऊंची चोटी कौन सी है ?
(a) पंचमढ़ी
(b) महाबलेश्वर
(c) पारसनाथ
(d) जानापाव पहाड़ी

और पढ़ें-







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां