Top 10 Upcoming NASA Space Missions in hindi

नासा के आगामी 10 प्रमुख अंतरिक्ष मिशन

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा के द्वारा लांच होने वाले भविष्य के प्रमुख 10 मिशन के बारे में इस पोस्ट में बताया गया है। इस पोस्ट में हम नासा के भविष्य में लांच होने वाले अंतरिक्ष मिशन के बारे में जानकारी दी गई है। कि नासा के आगामी मिशन कौन से हैं उन स्पेश मिशन का उद्देश्य क्या है तथा वो कब तक लांच किये जाएंगे।

Top 10 Upcoming NASA Space Missions in hindi


1. पार्कर सोलर प्रोब (Parker Solar Probe)

मई 2018 में नासा ने इस मिशन की घोषणा की थी। इस मिशन के जरिए वैज्ञानिक वह करने जा रहे हैं जो आज तक किसी ने नहीं किया आपको बता दें कि वह पहली बार ऐसा यान छोड़ने जा रहे हैं जो सूर्य के नजदीक जाकर उसका अध्ययन करेगा। इस यान को वर्ष 2018 में छोड़ा गया था। यह सूर्य के से महज 6.4 अरब किलोमीटर की दूरी पर होगा। जो कि एस्ट्रोनोमिकल स्केल पर काफी कम दूरी है।

पार्कर सोलर प्रोब (Parker Solar Probe)


इस मिशन का मूल उद्देश्य सूर्य की संरचना और उसके तापमान के बारे में अध्ययन करना है ताकि हम भविष्य में इससे होने वाले कई तरह के संभावित खतरे को पहले ही भांप कर खुद को उनसे बचा सके। सूर्य के बारे में एक दिलचस्प बात यह भी है कि उसके सतह से ज्यादा गर्म उसका कोरोना गर्म है।

2. यूरोपा क्लिपर मिशन (Europa Clipper)

यूरोपा क्लिपर मिशन का मूल उद्देश्य होगा उस सवाल का जवाब और ढूंढना जो आज हम सदियों से करते आ रहे हैं कि ब्रह्मांड में पृथ्वी के अलावा भी कहीं जीवन मौजूद है। या या ना 2020 में छोड़ा गया था इसका मूल उद्देश्य बृहस्पति के उपग्रह 'यूरोपा' पर जीवन की तलाश करना। 

यूरोपा क्लिपर मिशन (Europa Clipper)


हाल ही में वैज्ञानिकों को यह पता चला है कि यूरोपा की सतह के नीचे समुद्र मौजूद है वह जानने को उत्सुक हैं। क्या यह समुद्र जीवन की उत्पत्ति के अनुकूल है या नहीं इसका पता लगाने के लिए यूरोप क्लिपर यान वहां तरल पानी एक एनर्जी सोर्स की तलाश करेगा जो कि जीवन के पनपने के लिए आवश्यक है। इस जानकारी को हासिल करने के लिए क्लिपर यूरोपा के कम से कम 40 से 45 बार चक्कर लगाएगा तथा हर छोटी से छोटी जानकारी एकत्रित करेगा। जब इसका मिशन पूरा हो जाएगा तो वह वापस पृथ्वी पर लौट आएगा।


3. JUICE MISSION

इसको यूरोपीयन स्पेस एजेंसी हेड करेगी। इसमें नासा उसकी मदद करेगा यह मिशन वर्ष 2022 में छोड़ा जाएगा। इसका मुख्य उद्देश्य होगा Europa, Ganymaede, Callisto के बारे में जानकारी इकट्ठा करना, जोकि बृहस्पति के उपग्रह हैं। वैज्ञानिक इन तीन ग्रहों के कंपोजीशन वातावरण और इनके निर्माण के बारे में जानना चाहते हैं साथ ही साथ यह भी जानने को उत्सुक हैं कि इन ग्रहों पर जीवन मौजूद है या नहीं यह मिशन यूरोपा क्लिपर मिशन जैसा ही है इसमें 2022 में लांच किया जाएगा तथा अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचने में 7.5 साल लगेंगे।

JUICE MISSION


4. Asteroids Redirect Mission


इसका उद्देश्य क्षुद्रग्रहों (Asteroids) के बारे में जानकारी कट्ठा करना ताकि भविष्य में हमारे साथ वह नहीं हो जो कभी टाइमस्ला के साथ हुआ था। इस मिशन को वर्ष 2020 में लांच किया गया था इसके तहत एक यान पृथ्वी के सबसे नजदीक मौजूद विशाल छुद्र ग्रह की ओर छोड़ा जाएगा जब यह जान वहां पहुंचेगा तो उसके रोबोटिक्स हाथ उस क्षुद्रग्रह के कुछ टुकड़े वहां से उठाकर हमारे चंद्रमा के ऑर्बिट में छोड़ देंगे वहां से आर्गनयान में मौजूद वैज्ञानिक बारीकी से उसका अध्ययन कर पाएंगे। इस मिशन में हमें क्षुद्रग्रहों के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी। इस मिशन में इस्तेमाल होने वाली तकनीक वही होगी जो मानवों को मंगल ग्रह पर ले जाने में इस्तेमाल की जाएगी।

Asteroids Redirect Mission


5. Orion Space Craft

ओरियन अंतरिक्ष यान नासा का निकटतम भविष्य के सबसे बड़े मिशन में से एक है। इसका उद्देश्य होगा मानवों को अंतरिक्ष में वहां तक ले जाना जहां तक कोई मानव अभी तक नहीं जा सका है उम्मीद की जा रही है कि यह यान मानवों को मंगल ग्रह पर ले जाने में पूरी तरह से सक्षम होगा इसके लिए इसे इस तरह से बनाया गया है कि अधिकतम तापमान, तीव्रगति, रेडिएशन फील्ड और अन्य मुश्किल वातावरण में भी बिना किसी परेशानी के काम कर सके दुनिया का कोई भी साधारण यान इसके समता के सामने बौना है। ओरियन ऐसेलेश नामक विशाल रॉकेट की सहायता से छोड़ा जाएगा। यह रॉकेट ओरियन को चांद के आगे तक ले जाएगा। इस राकेट पर अभी तक काम चल रहा है जबकि यान पूरी तरह से तैयार हो चुका है तथा इसका अब कई बार सफलतापूर्वक परीक्षण भी किया जा चुका है। इसका पहला काम होगा 2020 में हमारे सबसे नजदीक शुद्र ग्रह का अध्ययन करने में वैज्ञानिकों की मदद करना तथा इसका दूसरा तथा अहम काम होगा कि 2030 में मानवों को मंगल ग्रह की सतह पर सफलतापूर्वक उतारना।

Orion Space Craft


यह भी पढ़ें>>

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

close