प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत | Praayadveepeey bhaarat ke parvat 

प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत 

प्रायद्वीपीय भारत में अनेक पर्वत श्रेणियां एवं पहाड़ियां देखने को मिलती हैं। जो प्रकृतिक रूप से बहुत ही सुन्दर होती हैं। यहां बहुत सारे पर्यटक स्थल भी है जहां हजारों लाखों की संख्या में लोग इस प्राकृतिक मनमोहक दृश्य का लुफ्त लेने के लिए आते हैं। इन पर्वत और पहाड़ियों से बहुत सी नदियां निकलती हैं। प्रायद्वीपीय भारत में निम्नलिखित पर्वत श्रेणियां स्थित हैं।

अरावली पर्वत (Aravali Mountains)

अरावली पर्वत का विस्तार भारत के गुजरात, राजस्थान तथा दिल्ली तक है। अरावली पर्वत की गुजरात तथा दिल्ली में इसकी लम्बाई बहुत कम है। तथा यह इसकी सबसे अधिकतम  लम्बाई राजस्थान में है। इसकी लम्बाई 800 किलोमीटर है। राजस्थान में पश्चिमी विक्षोभ के द्वारा होने वाली वर्षा अरावली पर्वत के कारण नहीं हो पाती है। क्योंकि जब पश्चिमी मानसून अरब सागर होते हुए जब राजस्थान में प्रवेश करता है तो इसके मार्ग में अरावली पर्वत आ जाता है इसलिए मानसूनी हवाएं राजस्थान में प्रवेश नहीं कर पाती।

महत्वपूर्ण बिंदु
  • अरावली पर्वत का सर्वोच्च शिखर गुरु शिखर है।
  • यह माउंटआबू चोटी के पास में स्थित है।
  • दिलवाड़ा माउंटआबू में स्थित है। यह जैन‌धर्म का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है।
  • अरावली का दक्षिणी भाग जर्गा पहाड़ियों के नाम से जाना जाता है।
  • दिल्ली के समीप अरावली पर्वत को दिल्ली रिज के नाम से जाना जाता है।
  • यह पर्वत सबसे प्राचीन वलित पर्वत है।
  • यहां से बनास नदी पश्चिम से पूर्व दिशा में बहते हुए चम्बल नदी में मिल जाती है।
  • अरावली पर्वत को खनिजों का भंडार गृह कहते हैं।

अरावली पर्वत की पहाड़ियां
  1. गुरु शिखर - सिरोही (1727 मी)
  2. दिलबाडा - सिरोही ( 1442 मी)
  3. जरगा - उदयपुर (1431 मी)
  4. अचलगढ़ - सिरोही (1380 मी)
  5. कुंभलगढ़ - राजसमंद (1224 मी)
  6. भैराच (792 मी)
  7.  बैराठ (707 मी)
  8. सेर - सिरोही (1597)
अरावली पर्वत के दर्रे
  1. देसूरीनाल/केवड़ा की नाल
  2. हाथी दर्रा
  3. सोमेश्वर नाल
  4. फुलवारी की नाल
  5. सूरानाल अजमेर
  6. परवेरिया
  7. शिवपुर घाट

विंध्य पर्वत (Vindhya Mountains)

विंध्य पर्वत श्रेणी मालवा पठार के दक्षिण में स्थित है। इसका विस्तार मध्यप्रदेश राज्य में है। विंध्य पर्वत के दक्षिण में सतपुड़ा पर्वत श्रेणी स्थित है। विंध्याचल पर्वत श्रेणी तथा सतपुड़ा पर्वत श्रेणी के मध्य नर्मदा नदी बहती है। विंध्य पर्वत के पूर्व में भांडोर पहाड़ी और कैमूर पहाड़ी स्थित हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु
  • विंध्याचल पर्वत की सबसे ऊंची चोटी सद्भावना शिखर या गुडविल पीक है।
  • इसकी लम्बाई 2467 फिट (752मी) है।
  • यह मध्य प्रदेश के दमोह जिले के पास में स्थित है।
  • विंध्याचल पर्वत श्रेणी पहाड़ों की टूटी फूटी श्रृंखला है।
  • यह पश्चिम में गुजरात से मध्य प्रदेश पार कर उत्तर प्रदेश के बनारस में गंगा नदी घाटी से मिलती है।
  • विंध्याचल पर्वत से चम्वल, केन‌, काली, सिन्ध, बेतबा आदि नदियां निकलकर उत्तर दिशा की ओर बहते हुए यमुना नदी में मिलजाती है।

प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत
प्रायद्वीपीय भारत के पर्वत



सतपुड़ा पर्वत (Satpura Mountains)

सतपुड़ा पर्वत, विंध्य पर्वत के दक्षिण में स्थित है। इसका विस्तार गुजरात, महाराष्ट्र एवं मध्य प्रदेश राज्य में है। यह एकमात्र ब्लाक पर्वत का उदाहरण है। क्यो कि दो भ्रंस घाटियों के मध्य में स्थित पर्वत को ब्लाक पर्वत कहते हैं। सतपुड़ा पर्वत श्रेणी के उत्तर में नर्मदा भ्रंस घाटी तथा सतपुड़ा पर्वत के दक्षिण में ताप्ती भ्रंस घाटी स्थित है। सतपुड़ा पर्वत पश्चिम से पूर्व की ओर तीन पहाड़ियों के रूप में विस्तृत है। पश्चिम से पूरब की ओर इसका क्रम इस प्रकार से है।
1. राजपीपला
2. मैकाल पहाड़ी
3. महादेव पहाड़ी

महत्वपूर्ण बिंदु
  • सतपुड़ा पर्वत की सबसे पश्चिमी पहाड़ी राजपीपला पहाड़ी है।
  • सतपुड़ा पर्वत के मध्य में महादेव पहाड़ी स्थित है।
  • सतपुड़ा पर्वत की सबसे ऊंची चोटी धूपगढ़ महादेव पहाड़ी पर स्थित है।
  • पंचमढ़ी जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र धूपगढ़ चोटी के पास स्थित है।
  • सतपुड़ा पर्वत पूर्व में मैकाल पहाड़ी स्थित है।
  • मैकाल पहाड़ी की सबसे ऊंची चोटी अमरकंटक है
  • अमरकंटक पहाड़ी से ही नर्मदा तथा सोन नदियां निकलती हैं।
  • नर्मदा नदी पश्चिम दिशा की ओर अपनी भ्रंस घाटी में बहती है।
  • सोन नदी अमरकंटक से निकलकर उत्तर दिशा की ओर बहते हुए बिहार में गंगा नदी में मिलती है।
  • मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सीमा निर्धारण मैकाल पहाड़ी ही करती है।

पश्चिमी घाट पर्वत (Western Ghat Mountains)

पश्चिमी घाट पर्वत गुजरात तथा महाराष्ट्र की सीमा से लेकर तमिलनाडु राज्य तक फैला हुआ है। इसका विस्तार 6 राज्यों गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटका, केरल तथा तमिलनाडु में है।
पश्चिमी घाट पर्वत को सह्याद्रि के नाम से भी जानते हैं। पश्चिमी घाट पर्वत की लम्बाई 1600 किमी है। इसका निर्माण इंडियन प्लेट के अफ्रीकन प्लेट के टूटने के परिणामस्वरूप हुआ था। उत्तरी सह्यद्रि की सबसे ऊंची चोटी काल्सुबाई है। काल्सुबाई तथा तथा महाबलेश्वर चोटी महाराष्ट्र राज्य में स्थित हैं।

महाबलेश्वर चोटी से कृष्णा नदी निकलकर पूर्व की ओर बहते हुए बंगाल की खाड़ी में अपना जल गिराती है। पश्चिमी घाट पर्वत को महाराष्ट्र तथा कर्नाटक में सह्याद्रि और केरल तथा तमिलनाडु में सह्यद्र पर्वतम कहा जाता है। गुजरात राज्य के सौराष्ट्र में तीन पहाड़ियां स्थित हैं-
  1. गिर पहाड़ी
  2. बारदा पहाड़ी
  3. मांडव पहाड़ी
कर्नाटक राज्य में ब्रम्हगिरी चोटी से कावेरी नदी निकलर पूर्व की ओर कर्नाटक तथा तमिलनाडु राज्य में बहते हुए अपना जल बंगाल की खाड़ी में गिराती है। कर्नाटक राज्य के पश्चिमी घाट पर मुख्य रूप से दो चोटियां हैं-
  1. कुद्रेमुख
  2. ब्रम्हगिरी या पुष्पगिरी
महत्वपूर्ण बिंदु
  • साइलेंट वेली या शान्त घाटी केरल के पश्चिमी घाट पर ही स्थित है।
  • शान्त घाटी अपनी जैव विविधता और उष्णकटिबंधीय सदाबहार वर्षा वन के कारण जाना जाता है।
  • पश्चिमी घाट पर्वत विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल है।
  • पश्चिमी घाट पर्वत की सबसे ऊंची चोटी अन्नाईमुडी है
  • इस गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल तथा तमिलनाडु में 16000 वर्ग किमी में फैला हुआ है।
  • भारत सबसे ऊंचा जलप्रपात जोग जल प्रपात पश्चिमी घाट पर ही स्थित है।
  • जोग जल प्रपात कर्नाटक राज्य में स्थित है इसकी ऊंचाई 253 मी (829 फुट) है।

पश्चिमी घाट पर्वत पर स्थित पर्यटन स्थल 

पश्चिमी घाट पर्वत या सह्याद्रि पर्वत पर बहुत सारे पर्यटन स्थल है जिनमें प्रमुख पर्यटन स्थल इस प्रकार हैं।
  • महाबलेश्वर (महाराष्ट्र)
  • ऊंटी या ऊटक मंडलम (तमिलनाडु)
  • लोनावाला खंडाला (महाराष्ट्र)
  • कुन्द्रेमुख कोडागु 
  • कोडाइकनाल ( पालनी पहाड़ी पर - तमिलनाडु) 
पश्चिमी घाट पर्वत के महत्त्वपूर्ण दर्रे
1. थालघाट - नागपुर व मुम्बई को जोड़ता है।
2. भोरघाट - यह पुणे तथा मुम्बई को जोड़ता है।
3. पालघाट - यह केरल व तमिलनाडु को जोड़ता है।
4. सेन कोट्टा - यह तिरूवनंतपुरम तथा मदुरै को जोड़ता है। सेन कोट्टा नागरकोइल और कार्डमम पहाड़ियों के मध्य स्थित है। यह कर्डामम पहाड़ी पर स्थित है।

अन्नाइमुदी पर्वतीय गांठ
पालघाट दर्रे के दक्षिण में अन्नाइमुदी पर्वतीय गांठ स्थित है। जिसे अन्नाइमुदी पर्वतीय गांठ कहते हैं। अन्नाइमुदी पर्वतीय गांठ से तीनों दिशाओं में पहाड़ियां निकली हुई हैं।

1. अन्नामलाई (यह उत्तर दिशा की ओर है)
2. पालनी पहाड़ी (उत्तर पूर्व की ओर)
3. कर्डामम या इलाइची की पहाड़ियां (दक्षिण की ओर)

नीलगिरी पर्वत (Nilgiri Mountains)

पश्चिमी घाट पर्वत तथा पूर्वी घाट पर्वत ये दक्षिण की ओर तमिलनाडु में आपस मिलकर गांठ का निर्माण करती है इस पर्वतीय गांठ को नीलगिरी पर्वत कहते हैं। इस पर्वत की सबसे ऊंची चोटी डोडाबेट्टा है तथा इसी पर्वत के दक्षिण में एक पर्वतीय दर्रा है जिसे पालघाट दर्रा कहते हैं।

पूर्वी घाट पर्वत (Eastern Ghat Mountains)

पूर्वी घाट पर्वत का विस्तार पश्चिम बंगाल से लेकर तमिलनाडु राज्य तक है। यह पर्वत वहां प्रवाहित होने वाली नदियों के द्वारा काट दिया गया है तथा कृष्णा और कावेरी नदियों के डेल्टा के बीच में पूर्वी घाट पर्वत बिल्कुल समाप्त हो गया है। सिम्लीपाल वन्य जीव अभयारण्य तथा भितरकनिका वन्य जीव अभयारण्य  पर्वी घाट पर्वत पर ही स्थित हैं। यहां पाये जाने वाले पशु पक्षीओं में नीलगिरी ताहिर, गोर, सांभर, शेर तथा लंगूर पाये जाते हैं।

 पूर्वी घाट पर्वत को अलग-अलग राज्यों में वहां के लोकल नाम से जाना जाता है। आंध्रप्रदेश में नल्लामलाई, पालकोंडा और वेलिकोंडा। तेलंगाना में शेषाचलम तमिलनाडु में शेवराय, जवादी, पंचामलाई, सिरूमलाई आदि नामों से जानते हैं। पूर्वी घाट पर्वत के दक्षिण में चंदन और सागौन के वृक्ष बहुतायत में पाए जाते हैं।

प्रमुख पहाड़ियां
  • शेवराय की पहाड़ियां (तमिलनाडु)
  • जवादी की पहाड़ियां (तमिलनाडु)
  • पालकोंडा (आंध्रप्रदेश)
  • नल्लामलाई (आंध्रप्रदेश)

महत्वपूर्ण बिंदु
  • पूर्वी घाट पर्वत की सबसे ऊंची चोटी महेंद्रगिरि है।
  • महेंद्रगिरी पर्वत चोटी की ऊंचाई 1501 मी. है। यह उड़ीसा राज्य में स्थित है।
  • पूर्वी घाट पर्यावरण पारिस्थितिकी तंत्र एक सबसे अच्छा उदाहरण है।
  • यहां की पर्वत और पहाड़ियां चर्कोनाइट चट्टानों से बनी हैं।
  • यहा बहने वाली नदियां पूर्वी घाट पर्वत से होकर बंगाल की खाड़ी में अपना जल गिराती हैं 
  • जल मार्गों का विभाजन पर्वी घाट को ही कहते हैं।


भारत के पर्वतों पूछे जाने वाले प्रश्न

1. निम्न में से कौन सबसे नवीनतम पर्वत श्रेणी है? 
a. विंध्य
b. अरावली
c. शिवालिक
d. अन्नामलाई

2. किस पर्वतमाला को सह्यद्रि के नाम से जाना जाता है?
a. सतपुड़ा
b. पश्चिमी घाट
c. पूर्वी घाट
d.अरावली

3. प्रायद्वीपीय भारत की उच्चतम चोटी कौन सी है ?
a. अनाईमुदी
b. डोडाबेट्टा
c. महेंद्र गिरी
d. नीलगिरी

4. पश्चिमी घाट पर्वत तथा पूर्वी घाट पर्वत का सम्मिलन स्थल कहता है
a. पालनी पहाड़ी
b. नीलगिरी पर्वत
c. अन्नामलाई
d. शेवराय

5. भारत के सबसे दक्षिण भाग में स्थित पहाड़ियां कौन सी हैं?
a. नीलगिरी
b. कार्डमम या इलाइची की पहाड़ियां
c. पालनी 
d. अन्नामलाई

6. पूर्वी घाट पर्वत की सबसे ऊंची चोटी कौन सी है?
a. नीलगिरी
b. अन्नामलाई
c. महेंद्र गिरी 1501 मी.
d. पालनी

7. कार्डमम पहाड़ियां या इलाइची की पहाड़ियां कहां स्थित हैं ?
a. केरल
b. तमिलनाडु
c. गोवा
d. तेलंगाना

8. सबसे प्राचीन पर्वत श्रृंखला कौन सी है ?
a. अरावली
b. सतपुड़ा
c. विंध्याचल
d. शिवालिक

9. छोटा नागपुर पठार की सबसे ऊंची पर्वत चोटी कौन सी है ?
a. धूपगढ़
b. कैमूर
c. पारसनाथ
d. अमरकंटक

10. अंडमान निकोबार द्वीप समूह में स्थित सबसे ऊंची पर्वत चोटी कौन सी है ?
a. सैंडल पीक
b. मांउट कोयल
c. मांउट इल्लर
d. मांउट दियावालो


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ