मूर्तीदेवी पुरस्कार 2021 | 33 वां Murtidevi Award

मूर्तीदेवी पुरस्कार 2021 | 33 वां Murtidevi Award


 मूर्तीदेवी पुरस्कार 

इस पुरस्कार की स्थापना 1983 में भारतीय ज्ञानपीठ समिति के द्वारा किया गया। भारतीय ज्ञानपीठ समिति द्वारा दिया जाने वाला प्रतिष्ठित साहित्यिक सम्मान है। यह पुरस्कार संविधान की 8 वीं अनुसूची में शामिल 22 भाषाओं में से जिस भाषा की कृति पुरस्कार के योग्य होगी उसे भाषा को यह सम्मान दिया जाता है।

स्थापना - सन् 1983

पुरस्कार धनराशि - पुरस्कार में 4 लाख रुपए, प्रशास्ति पत्र, प्रतीक चिन्ह, वाग्देवी की प्रतिमा दी जाती है। 

मूर्ती देवी  पुरस्कार विजेता (हिन्दी)


क्र.सं. सन् साहित्यकार
1 1983 सी के नागराज राव (कन्नड़)
2 1984 वीरेन्द्र कुमार सखलेचा
3 1988विष्णु प्रभाकर
41989 विद्यानिवास मिश्र
5 1990 मुनि श्री नागराज
6 1992 कुबेर नाथ
7 1993 श्यामा चरण दुबे
8 1995 निर्मल वर्मा
9 2000गोविंद चंद्र पांडेय
102001 राममूर्ति त्रिपाठी
11 2002 यश देव शल्य
12 2003 कल्याणमल लोढ़ा
13 2005 डाॅ राममूर्ति शर्मा
14 2006 कृष्ण बिहारी मिश्र
15 2011गुलाब कोठारी
162014 विश्वनाथ त्रिपाठी
17 2019 विश्वनाथ प्रसाद तिवारी (33वां)
18 2020  update soon..


#1. सन् 1983 में सर्वप्रथम कन्नड भाषा के साहित्यकार सी.के. नागराज राव को यह पुरस्कार दिया गया था।

#2. हिन्दी साहित्य में सर्वप्रथम 1984 में यह पुरस्कार विरेन्द्र कुमार सखलेचा को दिया गया

यह भी पढ़ें - 









एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ